पेशाब में जलन – कारण,लक्षण,उपाय

Spread the love

पेशाब में जलन का कारण: मूत्र प्रणाली में किसी रोग के संक्रमण होने, यौन रोगों के संक्रमण के कारण, किसी विष या दवा के प्रभाव से मूत्र गाढ़ा होने या कम मात्रा में आने के कारण पेशाब में जलन हो जाती है।

वृक्कों या मूत्र नलिकाओं में पथरी होने से भी पेशाब में जलन हो सकती है। प्रोस्टेट ग्रंथि की वृद्धि के कारण भी यह समस्या उत्पन्न हो सकती है।

पेशाब में जलन का लक्षण

पेशाब खुल कर न आना, कम मात्रा में आना तथा पेशाब करते समय जलन का अनुभव होना।

पेशाब में जलन का घरेलू उपाय

रोगी को पानी या क्षारयुक्त पेय पदार्थ खूब पिलाएं।

गाजर का एक-एक गिलास रस प्रात:-सायं दें।

दो चम्मच धनिया पानी में भिगो दें। रात में भिगोया हुआ धनिया सुबह व सुबह भिगोया हुआ धनिया शाम को पीसकर एक चम्मच मिसरी मिलाकर सुबह-शाम लें।

तुलसी की दस पत्तियां सुबह-शाम खाली पेट चबाकर ऊपर से पानी पी लें।

दो छोटी इलायची पीसकर सुबह-शाम फांक लें, ऊपर से दूध पी लें।

रोगी को मेथी का साग खिलाएं।

नारियल का पानी सुबह-शाम पिएं।

आलूबुखारा, अंगूर व आम के पके फलों का सेवन कराएं।

नीबू संतरा, मुसम्मी अनन्नास अथवा गन्ने का रस सुबह-शाम पिलाएं।

आयुर्वेदिक औषधियां

प्रवाल भस्म, चन्दनासव, उशीरासव, गोक्षुरादि गुग्गुल, वंग भस्म, देवदार्वाद्यारिष्ट आदि हैं।

पेटेंट औषधियां

डिवाइन के-क्लीन कैप्सूल (बी.एम.सी. फार्मा), ओरूक्लीन गोलियां (चरक), नीरी गोलियां व सीरप (एमिल), के-4 गोलियां (झण्डु), बंगशिल (एलारसिन) आदि दवाएं इस रोग में अच्छा लाभ करती हैं।

पेशाब में जलन – कारण,लक्षण,उपाय

Leave a Comment