नाभिपाक क्या है और घरेलु उपाय

नाभिपाक: प्रसव के समय स्वच्छता का ध्यान न रखने और प्रसव के समय प्रयुक्त उपकरणों के निर्जीवाणुकृत (स्टरलाइज) न होने के कारण शिशुओं में नाभिपाक की शिकायत होती है। नाभिपाक घरेलू उपाय नीम के पत्तों को पानी में उबालकर ठंडा करें और फिर उस पानी से नाभि को धोएं। नाभि को साफ करके उस पर … Read more

विषाद – कारण,लक्षण,उपाय

विषाद का कारण: भाव प्रधान मानस रोगों में यह सबसे अधिक होता है। जब व्यक्ति का किसी कार्य में दिल न लगे, वह किसी खुशी में शामिल न हो, किसी वस्तु अथवा कार्य में रुचि न रखे और उदास-उदास रहने लगे, तो उसके रोग को ‘विषाद रोग’ कहते हैं। यह रोग असफलता, धन या प्रिय … Read more

रक्ताल्पता – कारण,लक्षण,उपाय

रक्ताल्पता का कारण: रक्त में हीमोग्लोबिन की मात्रा सामान्य (13 से 16 ग्राम प्रति 100 क्यूबिक सेंटीमीटर) से कम होना या रक्त में रक्त कणों की संख्या सामान्य (50-55 लाख प्रति क्यूबिक मिलीलीटर) से कम होना रक्ताल्पता कहलाता है। यह स्थिति निम्नलिखित कारणों से हो सकती है- लोहे की कमी : हीमोग्लोबिन के निर्माण हेतु … Read more

रक्त स्राव के लक्षण और उपाय

रक्त स्राव: यह दो प्रकार का हो सकता है-आंतरिक या गुप्त, बाह्य या प्रत्यक्ष। आंतरिक रक्तस्राव सिर, पसली या कूल्हे की हड्डी टूट जाने, गोली या चाकू लगने आदि कारणों से रक्तस्त्राव शुरू हो जाता है, जो बाहर नजर नहीं आता। उपरोक्त कारणो से मस्तिष्क, यकृत (जिगर), प्लीहा (तिल्ली) आदि अंगों से होने वाला रक्तस्त्राव … Read more

गंजापन – कारण,लक्षण,उपाय

गंजापन का कारण: बाल झड़ने के मुख्य कारण हैं-रक्त विकार, कमजोरी व त्वचा का संक्रमण। मानसिक कारणों में चिंता, क्रोध, शोक आदि प्रमुख हैं। गंजापन का लक्षण कंघी करते वक्त, नहाते समय या अपने आप ही सिर के बाल टूटने लगते हैं। गंजापन का घरेलू उपाय सफेद या लाल चिरमठी (घुंघची) पानी में घिसकर लगाएं। … Read more

मोटापा – कारण,लक्षण,उपाय

मोटापा का कारण: खाने-पीने में वसायुक्त पदार्थों का अधिक प्रयोग, शारीरिक श्रम का पूर्णत: अभाव और दोषपूर्ण जीवन प्रणाली मोटापे का मुख्य कारण है। कभी-कभी मोटापा वंशानुगत भी चलता है। हारमोन असंतुलन के कारण भी मोटापा बढ़ सकता है। मोटापा का लक्षण शरीर के आकार व भार में लगातार वृद्धि होना, शरीर में चुस्ती, फुर्ती … Read more

मूर्च्छा के लक्षण

मूर्च्छा के लक्षण: सदमा, दम घुमना, विषपान, विषाक्तता, अथवा सिर व मस्तिष्क पर चोट आदि कारणों से व्यक्ति मूर्च्छित हो सकता है। अन्य कारणों में मिर्गी, हिस्टीरिया, मधुमेह, दिल का दौरा आदि शामिल हैं। अत्यंत गर्मी के प्रभाव से भी मूर्च्छा हो सकती है। मूर्च्छा के लक्षण अपूर्ण व पूर्ण मूर्च्छा में अलग-अलग लक्षण मिलते … Read more

मिर्गी – कारण,लक्षण,उपाय

मिर्गी का कारण: बुद्धि एवं मन की विकृति के कारण आवेगों में आने वाले इस रोग में रोगी थोड़ी देर के लिए मुर्च्छित हो जाता है। रोगी को आग, पानी या किसी भी स्थान पर दौरा पड़ सकता है। मिर्गी का लक्षण रोगी काल्पनिक वस्तुएं देखते हुए गिर जाता है, आंखें चढ़ जाती हैं, मुंह … Read more

मलेरिया – कारण,लक्षण,उपाय

मलेरिया का कारण: यह रोग प्याजमोडियम नामक जीवाणु से फैलता है और मादा एनोफिलीज मच्छर द्वारा मनुष्य को काटे जाने पर इसका संक्रमण होता है। मादा एनोफिलीज मच्छर द्वारा काटे जाने पर प्लाजमोडियम नामक जीवाणु मानव शरीर में प्रवेश कर जाता है। प्रवेश के लगभग 9 दिन बाद अपनी संख्या में हजारों गुना वृद्धि करके … Read more

नकसीर को रोकने के उपाय

नकसीर को रोकने के उपाय: यदि नाक से खून बह रहा हो, तो सबसे पहले उपाय के रूप में रोगी को बैठाकर रखें, ताकि खून पीछे की ओर न जाए। नाक को पूरी तरह से साफ करें ताकि खून का कोई थक्का नाक में न रह जाए। तत्पश्चात् निम्नलिखित उपाय करें- नकसीर को रोकने के … Read more