हंसी मजाक के चुटकुले | Hansi majak ke chutkule

Spread the love

हंसी मजाक के चुटकुले | Hansi majak ke chutkule: दोस्तों आपके लिए हंसी मजाक के चुटकुले लेकर आये है जो की बेहद मजेदार है एवं ऐसे हंसी मजाक के है जिनको पढ़ कर आप हंस हंस के लोटपोट होने वाले है और अपने दोस्तों और फॅमिली के साथ शेयर करके उनका मन और दिल को भी खुस कर सकते हो इसी तरह के मजेदार हंसी मजाक के चुटकुले और भी है बहुत सारे जिनके लिंक्स निचे दिए गए है उनको भी पढ़ कर हंसी मजाक कर सकते है दोस्तों के साथ और जोक्स का लुफ्त उठा सकते है।

कॉमेडी जोक्स इन हिंदी फॉर व्हाट्सएप्प | हिंदी चुटकुले

कॉमेंट्री चुटकुले | हिंदी में चुटकुले

हरियाणवी चुटकुले

टी.वी. पर एड्स को देख कर बीवी हाजमे की गोली रोज खाने लगी थी।
एक दिन पतिदेव ने स्माइल देते हुए कहा – तुम चाहे जितनी हाजमे की गोली खालो,
तुम्हारे पेट में कोई बात पचेगी नहीं।

हंसी मजाक के चुटकुले | Hansi majak ke chutkule

एक औरत ने सुंदरता की चीजे बेचने वाले की दूकान के एक विक्रेता से कहा –
मुझे हरे रंग की लिपस्टिक दे दो।
हरा ही क्यों? इस रंग की लिपस्टिक होंठों पर बेकार लगेगी। विक्रेता ने कहा।
असल में बात ये है कि मेरे प्रेमी रेलगाड़ी के गार्ड है।
लड़की ने शर्माते हुए बताया।

एक ग्राहक ने शिकायत की – पकौड़ियां अच्छी नहीं हैं।
बूढ़े पकौड़ी वाले ने गर्म होकर कहा जानते हो, तुम्हारी पैदाइश के पहले ही से मेरी दूकान चल रही है।
तभी तो, ग्राहक बोला, क्या तब की पकौड़ियां अब तक सड़ी ना होंगी।

hasi majak ke chutkule

एक फिल्म निर्देशक को अपनी हीरोइन से प्रेम हो गया।
ये उसकी बीवी को चल गया एवं ये खुद पति पर कुछ अधिक निगरानी रखने लगी।
एक रात क्या हुआ की निर्देशक नींद में बड़ बड़ कर रहा था – मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकता,
मोनिका डार्लिंगा सच में, मैं अपनी पत्नी को तलाक दे दूंगा एवं तुमसे शादी कर लूंगा।
तभी उसकी आँखे खुल गई एवं उसने देखा कि पत्नी उस पर झुकी हुई, उसे घूर रही है। बस,
निर्देशक ने तुरंत आँखे बंद की एवं जोर से बोला – कट, अब अगला सीन शुरू करो।

पिताजी एक हफ्ते के लिए शहर से बहार जाने वाले थे।
उन्होंने लड़के को समझाया – देखो बेटा, कल से जो भी चिटठी आये, उस पर लिख देना कि ये कब आई।
पिताजी जब लौटकर आये एवं डाक देखने लगे तो हर पत्र पर एक ओर लिखा था – अभी आई।

एक साहब (अपने दोस्त से) – क्यों भाई, तुम्हारे घर में तो नौकरानी थी।

अभी आप अपने कपड़े धो रहे हो। क्या बात है?

दोस्त—’यार, मैंने उससे शादी कर ली।

हंसी मजाक के चुटकुले | Hansi majak ke chutkule

हंसी मजाक के चुटकुले | Hansi majak ke chutkule
हंसी मजाक के चुटकुले | Hansi majak ke chutkule

1000+ हँसाने मजेदार चुटकुले | सबसे मजेदार चुटकुले

दर्शनशास्त्र के एक प्राध्यापक से कोई ने पूछा – आपके जुड़वां बच्चे हुए हैं, वे लड़के है और लड़कियां?

मुझे ठीक से तो नहीं मालूम, हो सकता हो की एक लड़का एवं एक लड़की

और इसका उलटा भी हो सकता है। उत्तर मिला।

गुप्ता जी ने टेलीफोन लगवाने के लिए दरख्वास्त दी थी। बार—बार याद दिलाने पर भी जब टेलीफोन विभाग के कान पर जू नहीं रेंगी, तब उन्होंने गुस्से में आकर एक तार भेजा—’मेरा ऑर्डर फौरन कैंसिल कर दो।’

जवाब आया – दुख है, आपका ऑर्डर फौरन कैंसिल नहीं किया जा सकता। जब आपकी बारी आयेगी, तभी होगी।

रात होटल में बिताने के बाद ग्राहक खुद कमरे से नीचे आया।

मुझे आशा है, आपको नींद अच्छी आई होगी? होटल के मैनेजर ने पूछा।

नींद! मैं रात भर एक क्षण भी आंखें बन्द नहीं कर सका।

यह आपने बहुत ज्यादा गलती की। जब आपको सोना हो तो आपको आंखें बहुत जरुरी बन्द कर लेनी चाहिए।

डॉक्टर ने मरीज से कहा – तुम तो मामूली – सा पीठ दर्द बता रहे थे, परन्तु तुम्हारी तो धड़कन भी काफी बढ़ी हुई है।

जी, धड़कन तो दीवार पर लिखी आपकी फीस देखकर बढ़ी है। मरीज ने स्पष्ट किया।

मेहमान– बच्चों को रुपए इकटठा करने के लिए तुम उन्हें गुल्लक क्यों नहीं ले देते?

मेजबान – हमारा अनुभव है कि गुल्लक बच्चे को कंजूस एवं मां – बाप को चोर बना देता है।

राकेश – नरेश, आप उतने उदास क्यों हो?

नरेश – मैंने खुद पापा से किताबों के लिए रुपये मंगवाये थे, मगर उन्होंने किताबें ही खरीद कर भेज दी।

Hansi majak ke chutkule

गांव की एक छोकरी अपने मकान के बाहर बैठ कर गाय का दूध निकाल रही थी।
तभी अंदर बैठी मां को बाहर से किसी आदमी की आवाज आई।
बेटी। मां ने आवाज देकर पूछा – बाहर कौन है?
बेटी ने जवाब दिया – कोई शहर का आदमी है। एक गिलास दूध मांग रहा है।
मां ने आदेश दिया। तू फौरन अंदर आजा।
लेकिन मां, वह कहता है कि मैं एक लीडर हूं।
तो गाय को भी अपने साथ अंदर ले आना।

Hansi majak ke chutkule

जो लोग सिगार पीते थे, वो चुरुट पीने लगे हैं।
जो लोग चुरुट पीते थे, वो सिगरेट पीने लगे हैँ।
जो लोग सिगरेट पीते थे, वो बीड़ी पीने लगे हैं।
जो लोग बीड़ी पीते थे, वो तम्बाकू खाने लगे हैँ।
और जिनका तम्बाकू से कुछ लेना – देना नहीं था, वह?
भई, हम केवल उन चीजों की बात कर रहे हैं, जिन पर टैक्स लगा है।

100 हिन्दी चुटकुले | Funny Hindi Chutkule

एक बार एक ग्रंथी,मौलवी और पंडित फुर्सत के लम्हो में गुफ्तगू कर रहे थे।

चर्चा का विषय था की ये लोग पूजा के दौरान मिली दक्षिणा किस प्रकार उपयोग में लेते है।

विषय बहुत ही नाजुक था। सवाल व्यक्तिगत आवश्यकताओं और पूजा स्थल की देखभाल के बिच दक्षिणा के धन के सामंजस्य का था।
पुजारी बोले – भाई मै तो रोज की आरती के बाद पूजा का थाल बिच हॉल में रख देता हु।
भक्तजन अपने स्थान से दान दक्षिणा के सिक्के उछाल देते है।

जितने थाली में गिरते है उतने मेरे रोज के खर्च के लिए उपयोग हो जाते है।
और बचे हुवे प्रभु के भोग , श्रृंगार और मंदिर के रखरखाव में।

मौलवी जी का भी कमोबेश यही तरीका निकला, वे बोले मैं भी नमाज के बाद अपनी चादर फैला देता हु। नमाजी पैसा उसमे दे देते है। जितना मेरा खर्च होता है मैं उसमे से निकाल लेता हु बाकी का मस्जिद के रखरखाव में खर्च होते है।

ग्रन्थी जी कसमसाये और तल्ख़ आवाज में बोले “तुम लोग ऊपर वाले की नेमत की इस तरह तोहिन करते हो” तभी तो लगता है की महीनो से कुछ खाया ही नहीं।

पंडित जो और मौलवी जी दोनों चौंके और पूछ बैठे “ग्रन्थी जी भला हम क्या गलत करते है”, आप ही बताइये आप चढ़ावे का क्या करते है ?
लेकिन दोनों के लाख मनाने के बाद भी ग्रंथि जी ने अपने सफ़ेद चिकनी दाढ़ी पर हाथ फेर कर सिर्फ यही फरमाया की।

“रुपया पैसा तो ऊपर वाला ही देता है “
इसे इस तरह बांट कर उछाल कर आप लोग ऊपर वाले की ही बेइजत्ती करते हो।

आप कल खुद ही गुरुद्वारे आकर देख लेना की चढ़ावे का सही इस्तेमाल क्या है।
अगले दिन तड़के दोनों गुरुद्वारे पहुंचे पूजा पाठ के बाद वे दोनों देखते क्या है

की ग्रंथि जी ने भक्तो को एक चादर पर तमीज से पैसे चढ़ाने को कहा।
फिर पोटली बांध कर आसमान में उछली और चिल्लाये –

वाहे गुरु ये तेरी नेमत है जितनी चाहे रख ले और बाकी अपने इस बन्दे के लिए बख्स दे।
उधर पोटली ग्रंथि जी के हाथ में गिरी इधर दोनों गस खाकर निचे।

हंसी मजाक के चुटकुले | Hansi majak ke chutkule

Leave a Comment