दम घुटना – कारण,लक्षण,उपाय

Spread the love

दम घुटना का कारण: फेफड़ों में प्रर्याप्त मात्रा में ताजी हवा न पहुंचने से मस्तिष्क व हृदय आदि महत्त्वपूर्ण अंगों में आंक्सीजन की कमी होने से उत्पन्न दशा को दम घुटना कहा जाता है।

पानी में डूबने, गला घोंटने, गले के अंदर सूजन होने तथा विषैली गैसों के धुएं के कारण फेफड़ों में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन का अभाव हो जाता है।

विष के प्रभाव तथा बिजली का झटका लगने से भी शरीर के आवश्यक अंगों में ऑक्सीजन की कमी हो सकती है।

दम घुटना का लक्षण

चक्कर आना, होठ, नाक, कान व नाखूनों में पीलापन व बाद में नीलापन, नाड़ी की गति अनियमित होना, गरदन की शिराओं का फूल जाना व चेहरा नीला होना इस रोग के प्रमुख लक्षण हैं।

दम घुटना का घरेलू उपाय

कारण दूर करें व रोगी को पर्याप्त हवा वाले स्थान पर रखें।

श्वास प्रणाली मार्ग में यदि कोई रुकावट हो तो उसे दूर करें।

आवश्यक हो तो कृत्रिम श्वास दें।

रोगी को तुरंत अस्पताल ले जाएं।

दम घुटने पर विशिष्ट चिकित्सा

क. पानी में डूबने पर

रोगी को पेट के बल लिटाएं। कमर को ऊपर उठाएं ताकि फेफड़ों से पानी बाहर निकल जाए। पेट के नीचे मटका या चद्दर आदि कोई कपड़ा तह करके रखने से पानी सरलता से व शीघ्रता से पेट से निकल जाता है।

ख. गला घोटना व फांसी लगाना

रोगी की रस्सियां ढीली करें और रोगी को जमीन पर लिटा दें। कृत्रिम श्वास दें और रोगी को अस्पताल भेजें।

ग. बिजली का झटका लगाना

बिजली की आपूर्ति बंद करें या लकड़ी के डंडे की सहायता से रोगी को बिजली के तार/स्विच आदि से अलग करें। आवश्यक हो तो कृत्रिम श्वास दें।

दम घुटना – कारण,लक्षण,उपाय

Leave a Comment